“VPN kya hai और VPN काम कैसे करता है” हेलो दोस्तों स्वागत है आप सभी का TechnicalHariJi  में दोस्तों आज की पोस्ट में हम बात करने वाले है वपन की, वपन क्या है और ये कैसे काम करता है दोस्तों इससे पहली पोस्ट में हमने बात की अपकमिंग बॉलीवुड मूवीज की जो की २०१९ में आने वाली है दोस्तों उम्मीद करते है आपको हमारी सभी पोस्ट पसंद आ रही होंगी.



इस पोस्ट में VPN के बारेमे बात करने वाले है की वपन क्या होता है और VPNका उपयोग क्या है पूरी जानकारी आपको यहां मिलने वाली है तो इस पोस्ट को आप शरू से एन्ड तक पढ़ना जरुरी है तो चलिये शरू करते है


वैसे तो हमे VPN की जरुरत नही है लेकिन हम बात करे Securityकी तो VPN हमारे लिए जरुरी है और वही बात की जाय Blocked Website की जी हम दोस्तों इंडिया में बहुत सी ऐसी वेबसाइट है जो सर्कार ने ब्लोब्क कर दी है तो उस वेबसाइट तक एक्सेस मिल पाना पॉसिबल नहीं है इसलिए यहाँ पर हम वपन का यूज़ कर सकते है और यह हम VPN का यूज़ कर उन ब्लॉक्ड वेबसाइट तक जाने की एक्सेस प् लेते है और वो वेबसाइट हम ओपन कर सकते है वो भी सिर्फ कुछ ही मिनट्स में

(Virtual Private Network)

VPN क्या है (What is VPN)

VPN का पूरा नाम Virtual Private Network है,  ये एक network की तकनीक है जो public network में जैसे की Internet और private network जैसे की Wi-Fi में सुरक्षित connection बनाता है. VPN एक बहुत ही बढ़िया तरीका है अपने network को सुरक्षित रखने के लिए और अपने personal data को hackers से बचाने के लिए. VPN service का इस्तेमाल जयादातर online काम करने वाले व्यापारी, Organisations, सरकारी agencies, educational institutions और Corporation जैसे लोग करते हैं ताकि वो अपने महत्वपूर्ण data को unauthorized users से बचाकर रख सकें. VPN सभी तरह के data को यानि जो जरुरी है और जो जरुरी नहीं भी है सभी को सुरक्षित रखता है. जो आम व्यक्ति हैं और वो internet का इस्तेमाल browsing करने के लिए करते हैं वो भी VPN service का इस्तेमाल अपने phone या Computer पर VPN application की जरिये कर सकते हैं.

VPN काम कैसे करता है (How  does VPN work)

VPN का सबसे अहम् काम होता है आपके connection को या फिर आप internet पर जो भी काम कर रहे हैं उन सभी को सुरक्षित रखना और उसके साथ साथ VPN का इस्तेमाल करने का सबसे बड़ा फायेदा ये है की internet पर जो भी restrictions होते हैं जैसे कुछ कुछ ऐसे website हैं जिसको हम अपने देश में access नहीं कर सकते हैं तो वो website हम VPN की मदद से आसानी से access कर पाएंगे मतलब जो website आपको पहले देखने की इजाजत नहीं मिलती थी अब वो website आप VPN के जरिये से देख सकते हैं.

जब हम अपने device को VPN के साथ connect करते हैं तब वो device एक local network की तरह काम करता है और हम जब भी उस website को अपने phone के browser में डाल कर search करते हैं जो हमारे देश में block है तब VPN अपना काम करना शुरू करता है और user के request को उस blocked website के server पर VPN के जरिये भेजता है और फिर वहां से website का सारा content और information user के device में दिखा देता है. आप एक देश में रहकर दुसरे देश के VPN से जब connect करते हैं तो वो काम होता है tunneling के जरिये और वो काम बड़े ही असानी से हो जाता है क्यूंकि वो website उस देश में block नहीं है जो हमारे देश में है तो आप वहां के VPN से connect हो जाते हैं उसके बाद उस VPN और आपके VPN के बिच एक network connection बन जाता है जो encrypted होकर रहता है जिसका मतलब है कोई भी उस network से personal detail चोरी नहीं कर सकता और फिर आप उस VPN के जरिये website को access कर सकते हैं.

VPN का use कैसे करे

अब तब तो हमने VPN क्या है के विषय में थोड़ी बहुत जानकारी प्राप्त कर ली है. तब ऐसे में हमें ये जानना होगा की आखिर इन VPN को कैसे इस्तमाल करें अपने Desktop Computer या SmartPhone में.

Computer में VPN सेट कैसे करे

यदि आप अपने Computer में VPN को इस्तमाल करना चाहते हैं तब इसके लिए आपको Opera Developer Software का इस्तमाल करना होगा. बस आपको उस software को download कर install करना होगा.

  1. पहले Install करने के बाद आपको App को Open करना होगा, अब इसमें आपको उपर की Side में, Menu का एक Option दिखेगा उस पर आपको Click करना होगा फिर Setting पर Click करना होगा.
  2. Setting पर click करने से आपके सामने Privacy and Security का option होगा, फिर उसे Click करने पर आपको VPN का Option नज़र आएगा, वहां पर आपको Enable VPN पर Tick करना होगा.
  3. ऐसे करने से आपके Opera Browser में VPN Activate हो जाएगा, अब इसमें आप सभी blocked Website को Access कर सकते है.
  4. 4. अब Browser के URL के पास आपको VPN लिखा हुआ दिखाई पड़ सकता है, इसपर आप click कर जब चाहें VPN को ON/OFF कर सकते है, साथ में Location भी जहाँ चाहें बदल सकते हैं.

Mobile में VPN सेट कैसे करे



यदि आप अपने SmartPhone में VPN Set करना चाहते है तब आप इसे बड़ी ही आसानी से कर सकते हैं, इसके लिए बस आपको अपने Mobile से Playstore (Android) या AppStore (iOS) से उस VPN App को पहले download करना होगा और फिर उसे install कर आप उसका इस्तमाल कर सकते हैं. तो चलिए जानते हैं की कैसे किसी App का इस्तमाल करें सही ढंग से.

  1.  अपने Smartphone में एक VPN App download करें, जैसे की Turbo VPN , उसे अपने Mobile में Install कर लें, जैसे आप एक App को install करते हैं.
  2. ऐसा करने के बाद आपको उस App को Open करना होगा, फिर उसमें अपने मनचाहे Location को Set करना होगा, ऐसा करने के बाद आपको सामने दिख रहे Connect पर Click करना होगा.
  3.  Connect पर Click करते ही आपका SmartPhone में VPN network activate हो जायेगा.
Computer के लिए Best VPN Software

वैसे तो Internet में बहुत से VPN software उपलब्ध हैं, लेकिन उनमें से अपने लिए सही VPN का चुनाव करना बहुत ही कठिन बात है. इसलिए मैंने Best VPN Software की एक लिस्ट तैयार की है जिन्हें आप अपने Windows 10 कंप्यूटर में install कर सकते हैं और अपने identity को बचा सकते हैं. वैसे ध्यान दें की इनमें से प्राय VPN Service दोनों Free और Paid हैं, इसलिए अगर आप एक normal user हैं तब आप Free VPN Service का इस्तमाल कर सकते हैं.

  • CyberGhost VPN
  • Avira Phantom VPN
  • Globus Free VPN Browser
  • Betternet VPN
  • SecurityKiss VPN
  • Spotflux VPN
  • Neorouter VPN
  • Hotspot Shield VPN
  • Windscribe VPN
  • Total VPN
Mobile के लिए Best VPN Apps

यहाँ पर मैंने Best Android VNP Apps की एक List बनायी हुई है, जिसे आप खुद देख सकते हैं और अपने जरुरत के हिसाब से आप किसी भी एक Android App को install कर सकते हैं.

  • NordVPN
  • ExpressVPN
  • CyberGhost VPN
  • TunnelBear VPN
  • Tiger VPN
  • Windscribe VPN
  • Safer VPN
  • Turbo VPN
VPN के Advantages क्या है
  • सबसे पहला फायदा यहीं है कि आप इससे किसी भी ब्लॉक वेबसाइट को ओपन कर सकते हैं.
  • आप अपने कंट्री की लोकेशन चेंज कर सकते है जैसे चाइना में फेसबुक ब्लॉक है तो चाइना वाले लोग वीपीएन से अपनी कंट्री लोकेशन चेंज करके फेसबुक यूज़ कर सकते हैं.
  • इन्टरनेट में आपको वीपीएन की सर्विस फ्री और पेड भी मिल जाती है आप चाहे तो वीपीएन सर्विस को फ्री में भी इस्तेमाल कर सकते हैं Google प्लेस्टोर में कई एप है जो फ्री में वीपीएन की सर्विस देते हैं.
  • जब आप वीपीएन सर्विस यूज़ करते है तो सारा कनेक्शन इनक्रिप्ट हो जाता है इसलिए इस सर्विस का इस्तेमाल करके आप हैकर से बच सकते हैं.
VPN के Disadvantages क्या है
  • कई लोग मानते है कि वीपीएन को यूज़ करने से उन्हें कोई नहीं पकड़ पाता लेकिन ये गलत आप पूरी तरह से अपने आप को नहीं छुपा पाते हैं क्योंकि वीपीएन सर्वर में आपका डेटा मौजूद रहता है.
  • कई फ्री वीपीएन सर्विस आपके डेटा को मिसयूज़ भी कर सकती है क्योंकि उनके पास आपने जो एक्सेस किया उसकी पूरी डिटेल होती है.
  • वीपीएन का सबसे बड़ा नुकसान ये है कि इसे यूज़ करके हैकर अपनी कई हद तक अपनी पहचान छुपाने में कामयाब हो जाते हैं.
  • अगर आप वीपीएन का इस्तेमाल करके इन्टरनेट चला रहे है तो आपको स्लो स्पीड मिलेगी क्योंकि आपके और गूगल के बीच एक और सर्वर जुड़ जाता है जिसे हम VPN सर्वर कहते हैं.
Free VPN का use क्यों नही करना चाइये

अब आप जान गए होंगे कि VPN क्या है और ये भी जानना चाहते होंगे कि इसका प्रयोग करना चाहिए या नहीं. फ्री और पेड दोनों VPN सर्विस के पास आपका डेटा होता है आप जो भी एक्सेस करते है जैसे जीमेल आईडी लॉग इन करना या बैंक से रिलेटेड यूजरनेम और पासवर्ड डालना इन सभी की डिटेल आपके वीपीएन सर्वर में होती है.

इन्टरनेट में आधी से ज्यादा फ्री वीपीएन सर्विस खुद ही आपको हैक करने का काम करती हैं इसलिए अगर आप कोई पर्सनल चीज या बैंक से सम्बंधित इनफार्मेशन एक्सेस कर रहे है तो आपको फ्री वाले वीपीएन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. कोई पर्सनल चीज या बैंक से सम्बंधित इनफार्मेशन एक्सेस करने के लिए आपको हमेशा बड़ी कंपनी द्वारा प्रोवाइड किये जाने वाली VPN का ही प्रयोग करना चाहिए.

VPN Secure कैसे है



दोस्तों आप में से ऐसे बहुत से लोग है जो वपन का उसे बड़े आराम से कर रहे है लेकिन क्या उनकी ये पता है की वपन सिक्योर है या नहीं तो आज में आपको बताने वाला हु की वपन किस तरह से सिक्योर है

  • By Tunneling:

Tunneling का अर्थ होता है पब्लिक नेटवर्क पर एक ऐसा टनल क्रिएट करना जिसमें पूरे पैकट को दूसरे पैकेट में पब्लिक नेटवर्क पर ट्रांसमिट किया जाता है। इसमें encapsulating प्रोटोकॉल इस प्रकार चुना जाता है कि डेटा पब्लिक नेटवर्क पर ट्रांसमिट होते वक्त दूसरे कंप्यूटर या नेटवर्क डिवाइसेस इसे समझ न सकें। encryption के द्वारा हम डेटा को स्क्रैम्बल कर सकते हैं जिससे कि उसको केवल Receiver ही समझ सकता है।

  • By Encryption

Tunneling मतलब होता है, पब्लिक नेटवर्क पर एक ऐसा टनल क्रिएट करना जिसमें पूरे पैकट को अन्‍य पैकेट में पब्लिक नेटवर्क पर ट्रांसमिट किया जाता है| इसमें encapsulating प्रोटोकॉल इस तरह से चुना जाता है, कि डेटा पब्लिक नेटवर्क पर ट्रांसमिट होते समय अन्‍य कंप्‍यूटर या नेटवर्क डिवाइसेस इसे समझ न सकें|

VPN कितने प्रकार के होते है

VPN मुख्यत तीन प्रकार का होता है वो हैं – Site-to-Site VPN, PPTP VPN, IPsec.

  • Site-to-Site VPN

इस VPN को use करते समय इसमें कोई भी डेडिकेटेड लाइन use नहीं कर सकते हैं। इसमें एक ही ऑर्गेनाइजेशन के अलग-अलग साइटस्, जिसमें हर एक का अपना नेटवर्क होता है, VPN बनाने के लिए एक साथ कनेक्ट होते हैं। केवल एक बात को छोडकर site-to-site VPN लगभग PPTP जैसा ही होता है। PPTP के विपरीत रूटिंग, एन्क्रिप्शन और डिक्रिप्शन दोनों अंत पर रूटर में बनाया जाता है जो एक हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर पर आधारित हो सकता है।

  • PPTP VPN

PPTP का मतलब Point-to-Point Tunneling Protocol है। यह बहुत ही आम और व्यापक रूप से प्रयोग होने वाला वीपीएन प्रोटोकॉल है। इसका डिसएडवांटेज यह है कि यह encryption प्रदान नहीं करता और इसमें यूजर्स मौजूदा इंटरनेट कनेक्शन पर VPN पर पासवर्ड ऑथेंटिकेशन का उपयोग कर, VPN नेटवर्क को कनेक्‍ट करते हैं। इसके लिए अतिरिक्त हार्डवेयर की जरूरत नहीं होती और इसके फीचर्स अक्‍सर सस्‍ते एड-ऑन सॉफ्टवेयर के रूप में उपलब्ध होते हैं।

  • IPsec VPN

यह एक भरोसेमंद प्रोटोकॉल है जो रिमोट साइट से सेंट्रल साइट पर टनल सेटअप करता है। जैसा कि इसका नाम बाताता है कि यह आईपी ट्रैफिक के लिए डिजाइन किया गया है। IPSec के लिए महंगे, समय लेने वाले क्‍लाइंट इंस्टालेशन्स की आवश्यकता होती है और इसी वजह से यह इसका सबसे बड़ा डिसएडवांटेज माना जाता है।

उम्मीद करते है आपको ये पोस्ट पसंद आयी होगी और बाकि की पोस्ट भी आपको पसंद आ ही रही होगी क्यूंकि हम आपके लिए लेकर आते है सबसे बेस्ट टेक्नोलॉजी पोस्ट तो हमें कमेंट करके जरुर बताये क्यूंकि अगर आप हमें कमेंट करके बताते है तो हम अपने लेख में और इम्प्रूव करेंगे जिससे आगे की पोस्ट आपको और बेहतर मिल सके

और आपने अभी तक हमारा ब्लॉग सब्सक्राइब नहीं किया है. तो प्लीज कर ले क्यूंकि में ऐसी टिप्स और ट्रिक्स आपके लिए लता रहता हु. सब्सक्राइब करने के लिए आपको अपना Email सबमिट करना है. थ्यं इसके बाद आपके पास एक कन्फर्मेशन मेल आएगा जिसे कन्फर्म कर देना है और ऐसा करते ही आप हमारे टीम मेंबर बन जाएंगे और सबसे पहली पोस्ट का अपडेट आपको ही मिलेगा.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here