Hello dosto :-

मेरा नाम है Deepak Rathor और आप पढ़ रहे है मेरा Blog जिसका नाम है Technicalhariji तो चलिए शुरू करते है। सबसे पहले में आपको बतादूँ की IP क्या होता है IP का पूरा नाम Internet Protocol है जिसका उसे कर हम इंटरनेट से कनेक्ट हो पाते है IP का उसे हम server से communicate करने के लिए करते है और जब हमारे computer में IP नहीं होगा तो हमारा Internet नहीं चलेगा। अपने computer में IP check करने के लिए आपको CMD OPEN करना होगा और उसमे आपको Ipconfig command type करनी होगी और आपका IP दिख जायगा।

Version of IP address :-

IP address के दो version  होते है 

1. IPv4
2. IPv6

सबसे ज्यादा उसे होने वाला IP address  IPv4 है वो इसलिए क्योंकि अभी तक IPv6 नहीं था तो आज से पहले IPv4 ही use किया जाता था। IPv6 इसलिए आया क्योंकि IPv4  भविष्या में समाप्त हो जाता वो इसलिए क्योंकि IPv4  को 5 class में बांटा  गया है IPv4 32 बिट का होता है और इसमें 4 octet होता है

Class A =  range 1-126 = subnet mask = 255.0.0.0
Class B = range 128-191 = subnet mask = 255.255.0.0
Class  C = range 192-223 = subnet mask = 255.255.255.0
Class D = range 224-239 = subnet mask = Reserve for multicasting
Class E = range 240-255 = subnet mask = Experimental; Used for research


इन पांच class में IPv4 को बांटा गया है 

IPv4 के भविष्या में समाप्त होने के कारण :-

Class A में Total host (16777214) इतने IP assign हो सकते है 
Class B में Total host (65534 ) इतने IP assign हो सकते है 
Class C   में Total host (254 ) इतने IP assign हो सकते है 

Class D और class E Reserve है तो इनका उसे हम नहीं कर सकते है
तो Total कितने IP Assign कर सकते है


Class A+Class B+Class C=16843002 
इतने IP हम assign कर सकते है यह आपको समझना होगा की ये one crore sixty Eight lakh three thousand two है और आज के ज़माने में अरब की संख्या में INTERNET User हो गए है तो ये one crore IP उन One अरब User में कैसे distribute किया जा सकता है तो इसी कमी को पूरा करने के लिए IPv6  को लाया गया IPv6 में लगभग 4.3 Billion IP assign कर सकते है तो अब इसकी पूर्ति हो चुकी है और IPv6 future में भी ख़तम नहीं होने वाला है IPv6 128 bit  का होता है

Types Of IPv4 :-

1. Private IP
2. Public IP

Private IP:-

Private IP वे होते है जिन्हे हम local area network में assign करते है Private IP की एक Range होती है

Class A में Private IP की Range 10.0.0.0 से लेकर 10.255.255.255 तक होती है
Class B में Private IP की Range 172.16.0.0 से लेकर 172.31.255.255 तक होती है
Class C में Private IP की Range 192.168.0.0 से लेकर 192.168.255.255 तक होती है

Public IP :-

Private IP में जितनी भी क्लास है उन सबकी क्लास को छोड़कर जितने भी IP है वो सब Public IP होते है जो हमे हमारे ISP द्वारा दिए जाते है ISP मतलब Internet Service Providor  द्वारा दिए जाते है Public IP को check करने के लिए आपको अपने Browser में WhatisMyIPaddress Type करना होगा और आपका IP दिख जायगा आप वह देख सकते हो की वो IP Private IP की range से बहार होगा Public IP को हमें Purchase करना होता है जो की IANA द्वारा दिया जाता है IANA का पूरा नाम Internet Assigned Number Authority है

Mobile Radiation क्या है और Radiation से कैसे बचें

Difference Between Private IP And Public IP :-

  • Private IP                                                       

1. In this IP not required Registration
2. It’s address provide Local ISP
3. In pvt. IP reserve for all classess
Class A= 10.0.0.0
10.255.255.255
Class B= 172.16.0.0
172.31.255.255
Class C= 192.168.0.0
192.168.255.255



  • Public IP 

1. It’s IP address require registration
2. It’s address provide by IANA
3. Remainig Ip range Comes in Public IP

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here