“HDD vs SDD Harddrive” हेलो दोस्तों TechnicalHariJi में आपका एक बार फिर से स्वागत है दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम बात करने वाले है HDD और SSD के बारे में और मेरी कोशिश यही रहेगी कि जहां तक हो में आपको पूरी जानकारी दे सकू और इससे पहली पोस्ट में हमने आपको बताया था कि LCD और LED में क्या अंतर है आपको हमारी वो पोस्ट पसंद आयी होगी और सभी पोस्ट पसंद आ ही रही होंगी तो चलिये शरू करते है


क्या आपको पता है की ये HDD vs SSD में क्या अंतर है? इन दोनों में से कोन ज्यादा बेहतर है? यदि आपको इन सभी सवालों का जवाब नहीं पता तब चिंता की कोई बात नहीं क्यूंकि आज में आप लोगों को SSD vs HDD के बारे में detailed में समझाने वाला हूँ ताकि आपके मन में कोई शंका न रह जाये.


जब भी कोई नया computer system लेने की सोचता है तब, बहुतों के मन में ये चिंता हमेशा रहती है की उन्हें अपने कंप्यूटर की storage के लिए कोन सी storage drive लेना उचित रहेगा. और उनके पास चुनने के लिए केवल दो ही विकल्प होते हैं एक है Solid State Drive (SSD) और दूसरा है Hard Disk Drive (HDD). लेकिन सही जानकारी न होने के कारण वो ये फैसला नहीं पाते और यदि कोई लेता भी है तो जानकारी न होने के कारण नुकशान में पड़ता है.

HDD vs SSD

‎‏

 

HDD क्या है – What is Hard Disk Drive in Hindi

HDD का full form होता है Hard Disk Drive . HDDs को सबसे पहले सन 1956 में IBM के द्वारा introduce किया गया था. आप शायद ये जन के हैरान होंगे लेकिन ये सच है की ये technology 60 साल पुरानी है. एक HDD में magnetism का इस्तमाल होता है data को store करने के लिए. एक read/write head spinning platter के ऊपर float करता है data को write करने के लिए और data को read करने के लिए. जितनी जल्दी ये rotating platter घुमेगी उतनी जल्दी ही HDD perform कर सकता है. आज के दोर में एक typical laptop drive 5400 RPM(Revolutions per minute) या 7200 RPM के हिसाब से घूमता है वहीँ कुछ कुछ तो 15,000 RPM तक spin कर लेते हैं.

HDD को इस्तमाल करने का एक सबसे बड़ा फायदा ये है की इसमें आप बहुत ही कम कीमत में बहुत सारा data रख सकते हैं. आज कल तो 1 TB storage बहुत ही आम बात है, और धीरे धीरे इसकी संख्या दिनबदिन बढती ही जा रही है. HDD SSD के तुलना में सस्ता होने के कारण ही लोगों की आज पहली पसंद बन गयी हैं. क्यूंकि अगर तुलना की जाये तो SSD HDD के मुकाबले 3 से 4 गुना ज्यादा costly होता है.

अगर बात करें HDD की appearance की तब बहार से ये हुबहू SSD के तरह ही दिखता है. HDD में SATA का इस्तमाल होता है. Laptop hard drives की common size होती है 2.5” form factor वहीँ Desktop की hard drive का आकार थोडा बड़ा होता है लगभग 3.5” form factor. जितनी ज्यादा platter की size होगी उतनी ही ज्यादा storage capacity होगी. कुछ desktop hard drives तो 6TB क का data store कर सकते हैं.

HDD कितने प्रकार की होती है – How many types of HDD in Hindi

विभिन्न प्रकार की Hard Disk की Data को Transfer करने और उसको स्टोर करने की Capicity अलग-अलग होती है यह निम्न तरह की होती है:


  1. IDE(Intergrated Drive Electronics): इन्हे DE (Drive Electronics) और PATA(Parrallel Advance Technology Attachment Drive) भी कहा जाता है ये एक समय में 8 बिट Data को Send कर सकती है।
  2. SATA (Serial Advance Technology Attachment Drive): यह Data को हर Second में 300MB तक के Data को Transfer कर सकती है SATA Cable को SATA Hard Disk में जोड़ने के लिए इस्तेमाल किया जाता है इसमे केवल एक ही ड्राइव को जोड़ा जा सकता है।
  3. SCSI (Small Computer System Interface Drive): यह हर सेकंड में 640 MB तक के Data को Transfer कर सकता है SCSI Cable को SCSI Hard Disk में जोड़ने में लिए इस्तेमाल किया जाता है इसमे एक साथ ज्यादा से ज्यादा 16 Drive जोड़े जा सकते है।
  4. SAS (Serial Attached SCSI Drive): इसमे एक साथ 805 MB Data को हर सेकंड Transfer किया जा सकता है इसकी Cable के साथ हम 128 Drive जोड़ सकते है।

SSD क्या है – What is Solid State Drive in Hindi

यदि आप SSD के बारे में नहीं जानते तो में आपको बता दूँ की SSD का full form है Solid State Drive . ये भी एक Memory device है Pen drive के तरह ही केवल इसमें थोडा ज्यादा space होता है और ये थोडा ज्यादा sophisticated device है. Memory Stick के जैसे ही इसमें कोई moving parts नहीं होती है. यहाँ data को micro chip में store करके रखा जाता है. जहाँ की एक Hard Disk में एक mechanical arm जिसमें read/write head होता है की मदद से information को read किया जाता है सही location से storage platter में. यही अंतर SSD को ज्यादा faster बना देती है. उदहारण के तोर पे अगर में कहूँ की अगर आपको एक book लानी है एक room से तो इसके लिए आपको room में चारों तरफ पहले खोजना होगा फिर उसे मिलने पर उसे लाना होगा. वहीँ यदि book पहले से ही आपके सामने हो और कहे जाने पर आप जल्दी से उसे ला लें तो आपको कैसे लगेगा. बस ऐसे ही SSD काम करता है जिसके लिए ये HDD से काफी गुना faster है.


SSD में NAND-based Flash memory का इस्तमाल होता है. ये एक non-volatile memory होती है. अब non-volatile का ये मतलब है की जब भी आप disk को बंद कर देते हैं तब ये इसमें जो चीज़ store होती हैं उसे ये नहीं भूलेगी. मतलब इसमें memory loss नहीं होता. हाँ ये जरुर किसी permanent memory का बहुत ही बड़ा और essential feature है.

जब पहले SSD पहली बार market में पहली बार आया था तब लोगों का इसके ऊपर इतना विश्वास नहीं था. लेकिन अब इस technology को बहुत ही जोरों सोरों से लोगों द्वारा इस्तमाल में लाया जा रहा है. और इसमें HDD के तुलना SSD का longivity ज्यादा है.

एक SSD का mechanical arm नहीं होता है इसलिए data को Read and Write करने के लिए एक embedded processor (या Brain) जिसे के Controller भी कहा जाता है का इस्तमाल होता है जिसकी मदद से बहुत सारे काम जैसे की reading और writing of data किया जाता है. SSD की speed को पता करने के लिए controller का इस्तमाल होता है. ये जो भी decision लेता है data को store, retrive, cache और clean up करने के लिए ये सभी चीज़ ही drive के overall speed को determine करते हैं.


SSD का form facrtor एक regular hard drive के सामान ही होता है. इसके standard size कुछ इस प्रकार है 1.8”,2.5”, और 3.5” size जो की बड़ी आसानी से housing और connectors में fit हो जाता है इसके सामान sized hard drive के तरह. इनके standard size के लिए SATA को connector के हिसाब से इस्तमाल किया जाता है. इसके अलावा दुसरे SATA भी हैं जैसे की mini-SATA जो की आकार में छोटे होते हैं इसीलिए इन्हें mini-SATA (mSATA) भी कहा जाता है और ये बड़ी आसानी से mini-PCI Express slot में लग सकता है जिसे की Laptop में इस्तमाल किया जाता है.

HDD और SSD में क्या अंतर है – What is the difference between HDD and SSD

अब में आपको SSD और HDD के भीतर क्या अंतर है इसी विषय में पूरी जानकरी देने जा रहा हूँ जिससे आपको बहतु ही आसानी होगी चुनने में की आपको आखिर क्या लेना चाहिए अपने नए computer के लिये.

AttributeSSD(Solid State Drive)HDD(Hard Disk Drive)
Power Draw / Battery Lifeये कम power का इस्तमाल करती है अगर averages की बात करें तो लगभग 2 से 3 watts जिसके चलते 30+ minute की battery boost मिलती हैंये SSD की तुलना में बहुत ही ज्यादा power का इस्तमाल करता है. अगर averages की बात करें तो लगभग 6 से 7 watts इसलिए ये ज्यादा battery का इस्तमाल करता है
Costये बहुत ही ज्यादा Expensive होता हैये SSD की तुलना में काफी सस्ता होता है.
Capacityये ज्यादातर इसके कीमत के वजह से ज्यादा capacity वाली storage नहीं बनायीं जातीये बहुत ही ज्यादा capacity वाली बनायीं जाती हैं और इस्तमाल में भी आता है.
Operating System Boot Timeइसकी average bootup time 10-13 seconds की होती हैइसकी average bootup time 30-40 seconds की होती है
Noiseइसमें को moving part न होने के कारण इसमें sound ज्यादा पैदा नहीं होतीइसमें moving parts होती है और इसके साथ इसमें clicks और spinning की भी sounds आती रहती हैं.
Vibrationइसमें को moving part न होने के कारण इसमें vibration ज्यादा पैदा नहीं होतीइसमें platters की spinning होती है जिसके चलते इसमें vibration पैदा होना आम सी बात है
Heat Producedये ज्यादा power की demand नहीं करती इसमें कोई moving parts भी नहीं है इसके चलते ये बहुत ही कम heat पैदा करती हैये SSD की तुलना में ज्यादा heat पैदा करती है क्यूंकि इसमें moving parts होती है जो की लगातार घूम रही होती हैं.
Failure Rateइसमें Mean time between failure rate of 2.0 million hoursइसमें Mean time between failure rate of 1.5 million hours
File Copy / Write Speedइसमें Copy करने की speed Generally 200 MB/s से 550 MB/s तक की होती हैइसमें Copy करने की speed Generally 50 MB/s से 120 MB/s तक की होती है
Encryptionइसमें drive में Full Disk Encryption (FDE) होती हैंइसमें drive में Full Disk Encryption (FDE) होती हैं
File Opening Speedये HDD की तुलना में 30% faster खुलता हैये SSD की तुलना में काफी slow होता है
Magnetism AffectedSSD किसी भी प्रकार की magnetism effect से safe होता हैवहीँ HDD पर Magnets का काफी असर पड़ता है इससे data पूरी तरह से erase भी हो सकती है
HDD के क्या फायदे है – What are the benefit of HDD
  • HDD बहुत ही सस्ती होती है
  • ज्यादा कैपेसिटी की HDD बहुत आसानी से मिल जाती है
  • कंही से भी Purchase कर सकते है .
HDD के क्या नुकसान है – What are the loss of HDD
  • Data Read Write की स्पीड कम
  • Powerज्यादा इस्तेमाल करती है
  • 5-6 साल बाद इसके दिक्कत आने लगती है क्योंकि ये एक मेकनिकल डिवाइस और इसके अंदर Moving पार्ट्स है .
  • Sizeज्यादा बड़ा होता है और वजन भी ज्यादा होता है .
SSD के क्या फायदे है – What are the benefit of SSD
  • जैसा कि इसमें सारा Data Chip में भी Save होता है तो इसकी Speed बहुत ज्यादा होती है और Fastly Read और व्रिठे कर सकती है
  • Power का बहुत कम इस्तेमाल करती है
  • ज्यादा Long Size नहीं होता और वजन भी बहुत कम होता है.
  • क्योंकि इसमें कोई Moving Parts नहीं तो खराब होने के बहुत ही कम चांस है
SSD के क्या नुकसान है – What are the loss of SSD
  • HDD के मुकाबले बहुत महंगी है
  • ज्यादा Capacity की SSD बहुत कम मिलती है
  • Normel Market में आसानी से नहीं मिलती .



SSHD क्या है – What is SSHD in Hindi

ये इब दोनों का Combination है जो दोनों को मिला कर बनाई गई है इसकी फुल फॉर्म है” Solid State hard Drive” ये आपको नई Laptops में ही मिलेगी और वो भी किसी किसी लैपटॉप के साथ में .इसमें आपको 1TB SSD Aur 30 GB SSD ( Not Fixed) मिलती है जिस से आप जो SSD है उसमे अपनों Operating System Install कर सकते है और HDD में अपनी File Save कर सकते है . इस आपका Computer Fastly काम करेगा क्योंकि SSD की Speed बहुत ज्यादा होती है और आप बड़े आराम से अपने कंप्यूटर पर काम कर सकते है .


अगर आप एक New Laptop लेना चाहते है तो कोसिस करे कि उसमें SSD हो और अगर आपके पास पुराना कंप्यूटर या लैपटॉप है जिसकी Speed Very Lowहै तो आप उसमें SSHD या SSD लगा कर उसकी Speed बड़ा सकते है .

PC के लिए कौन सी डिस्क सही है

दोस्तों, इस सवाल का जवाब totally हमारी जरूरत पर depend करता है की हम अपने PC को किस काम के लिए इस्तेमाल करेंगे। अगर आपको बहुत ही ज्यादा अच्छी परफॉरमेंस वाला PC बनाना है तो आप SSD की तरफ जा सकते हैं लेकिन अगर आपको एक सिंपल PC बनाना है जिसको आप अपने पर्सनल use में लेना चाहते हैं तो आप Hard Disk का इस्तेमाल बड़ी ही आसानी से कर सकते है और अगर आप काहे तो एक लिमिटेड साइज़ की SSD खरीद कर Operating System उसमे लोड कर सकते हैं।

Conclusion

SSD और HDD क्या है और इनके बीच क्या अंतर है मेने इस पोस्ट के माध्यम से आपको बता दिया है और उम्मीद करते है की आपको पोस्ट पसंद आयी होगी में ये भी उम्मीद करता हु की आप हमारी सभी पोस्ट को भी पढ़ते होंगे तो अगर आपको हमारे सभी पोस्ट अच्छी लगे है तो आप हमे Comment कर बता सकते है ताकि हम अपने Writing Skill में और Improvement कर सके

और आपने अभी तक हमारा Blog Subscribe नहीं किया है. तो Please कर ले but में ऐसी Tips और Trics आपके लिए लता रहता हु. Subscribe करने के लिए आपको अपना Email सबमिट करना है. थ्यं इसके बाद आपके पास एक Confirmation Mail आएगा जिसे Confirm कर देना है और ऐसा करते ही आप हमारे टीम मेंबर बन जाएंगे और सबसे पहली Post का Update आपको ही मिलेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here